भाषा और बोली में क्या अंतर है? जाने

भाषा और बोली में अंतर
भाषा शब्द की उत्पत्ति 'भाष्' क्रिया से हुई है।

भाषा अर्थ होता है
जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर या पढ़कर अपने विचारों को दूसरो के सामने प्रकट करते है हम अपने विचारो को दूसरों को समझा सकते है और दूसरों के भावो को समझ सके उसे भाषा कहते है।

भाषा के तीन रूप होते है :-
1. मौखिक भाषा 2. लिखित भाषा 3. सांकेतिक भाषा

बोली का अर्थ
वहा भाषा जी विशेष स्थान मेे उपयोग किया जाता हैं।जिसे बोली कहा जाता हैं। दुनिया में हर जगह या स्थान मेे बोली जाने वाली एक उस जगह की भाषा होती है । इसी प्रकार हर स्थान मेे की बोली होती है।

बोली के प्रकार :-
1. पूर्वी हिंदी  2. बिहारी हिंदी 3. पहाड़ी हिंदी  4. राजस्थानी हिंदी

बोली और भाषा में अंतर क्या है
 जिसकी अपनी लिपि होती वहा भाषा कहलाती है । और जिसकी कोई अपनी लिपि नहीं होती वह बोली कहलाती है।

 बोली और भाषा में विस्तार से जाने के लिए आप नीचे वेबसाइट की लिंक पर क्लिक कर जा सकते है।

भाषा और बोली में अंतर की पूर्ण जानकारी के लिए क्लिक करे