Bhasha Aur Boli Mein Antar

Bhasha Aur Boli Mein Antar,भाषा और बोली में अंतर क्या है?, Basha Aur Boli Mein Kya Antar Hai,बोली और भाषा

अगर दोस्तो आपको नहीं पता कि भाषा और बोली में क्या अंतर होता है तो आप सही लेख में आए हो आज हम इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे। भाषा और बोली में अंतर क्या है? । तो पढ़िए पूरा लेख ध्यान से आपके बोली और भाषा से जुड़े सारे सवाल समझ आ जाएंगे ।

भाषा और बोली में अंतर (Bhasha Aur Boli Mein Antar)

भाषा :-

भाषा शब्द की उत्पत्ति ‘भाष्‘ क्रिया से हुई है। जिसका अर्थ होता है जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर या पढ़कर अपने मन के विचारों को दूसरो के सामने प्रकट करते है। अथवा जिस माध्यम से हम अपने विचारो को दूसरों को समझा सकते है और दूसरों के भावो को समझ सके उसे भाषा कहते है। या अपनी भावनाओं और विचारों को अभिव्यक्त करने के लिए हम जिन माध्यमों का उपयोग करते हैं उसे भाषा कहते हैं।

भाषा के तीन रूप होते है :-

  1. मौखिक भाषा
  2. लिखित भाषा
  3. सांकेतिक भाषा

बोली और भाषा (Bhasha Aur Boli Mein Antar)

बोली :-

वहा भाषा जी विशेष स्थान मेे उपयोग किया जाता हैं। जिसे बोली कहा जाता हैं। दुनिया में हर जगह या स्थान मेे बोली जाने वाली एक उस जगह की भाषा होती है । इसी प्रकार हर स्थान मेे की बोली होती है ।

बोली के प्रकार :-

  1. पूर्वी हिंदी
  2. बिहारी हिंदी
  3. पहाड़ी हिंदी
  4. राजस्थानी हिंदी यदि

बोली और भाषा में अंतर क्या है (Bhasha Aur Boli Mein Kya Antar Hai)

क्रमांकभाषाबोली
1जिसकी अपनी लिपि होती वहा भाषा कहलाती हैऔर जिसकी कोई अपनी लिपि नहीं होती वह बोली कहलाती है।
2जिसका अपना व्याकरण होता है वहा भाषा हैऔर जिसका कोई अपना व्याकरण नहीं होता उसे बोली कहते हैं
3भाषा में कभी बदलाव नहीं होता हैऔर बोली जगह या स्थान के अनुसार बदल जाती है।
4भाषा विस्तृत होती हैऔर बोली सीमित होती है ।
5भाषा में नियमों का पालन होता हैऔर बोली मेे नहीं होता है ।

हमारे बारे में और जानेStudypdf.in

भाषा और बोली से जुड़े कुछ पूछे जाने वाले सवाल FAQ

प्र्श्न- हिंदी भाषा की बोलियों को कितने भागो में बांटा गया है?

उत्तर – हिंदी भाषा की बोलियों को 17 भागों में बांटा गया है जिसमें पश्चिमी हिंदी की 5 बोलियां है ; खड़ी बोली , हरियाणवी , बुंदेली,ब्रज और कन्नौजी राजस्थानी की चार बोलियां है ; मारवाड़ी ,जयपुरी, मेवाती और मालवी; पूर्वी हिंदी की तीन बोलियां ; अवधी बघेली और छत्तीसगढ़ी ;बिहारी की तीन बोलियां ; मैथिली, मगही और भोजपुरी और पहाड़ी की तीन बोलियां ; पश्चिमी , मध्यवर्ती पहाड़ी ,पूर्वी पहाड़ी ; मध्यवर्ती पहाड़ी की दो कुमाऊनी , गढ़वाली

प्र्श्न- लिपि और बोली में क्या अंतर है?

उत्तर – किसी भी भाषा में लिपि को लिखना पड़ता है।बोली को अपनी कोई लिपि नहीं होती है बोली उपभाषा होती है

प्र्श्न- भाषा और बोली मेे समानता क्या है?

उत्तर – भाषा और बोली दोनों विचार व्यक्त करने का साधन है ।

प्र्श्न- भाषा कितने प्रकार की होती है?

उत्तर – भाषा के तीन प्रकार :-
1.मौखिक भाषा 2.लिखित भाषा 3.सांकेतिक भाषा

Leave a Reply

Your email address will not be published.